Sawan Somvar 2020: भगवान शिव की पूजा की विधि, बरतें ये सावधानियां

नई दिल्ली: Sawan Somvar 2020 : सावन का पावन महीना 6 जुलाई से शुरू होने जा रहा है, और 3 अगस्त को आखिरी सावन का व्रत रखा जाएगा. भगवान शिव का प्रिय होता है सावन का महीना . माना जाता है कि इस महीने में भगवान शिव की आराधना करने वाले भक्तों को भगवान शिव का खास आशीर्वाद मिलता है.

शास्त्रों में सोमवार का दिन भगवान शिव की आराधना के लिए होता है. सोमवार के दिन व्रत रखने से भोले शंकर अपने भक्तों पर विशेष कृपा करते हैं. ऐसे में अगर सावन के महीने में एक साथ कई सोमवार का दिन आए तो उस दिन भोले भंडारी की सबसे ज्यादा अपनी कृपा बरसाते हैं. इस बार कुल पांच सावन सोमवार का दिन रहेगा. 

Sawan Somvar 2020: ये सावधानियां रखें

– सावन के महीने में व्रत रखने वाले लोगों को दूध का सेवन नहीं करना चाहिए. क्योंकि सावन में भगवान शिव को दूध चढ़ता है. इसलिए व्रत रखने वाले के लिए दूध का सेवन वर्जित है. 

– सावन में बैंगन का सेवन अशुद्ध माना जाता है इसलिए शिव भक्तों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए.

– सावन के महीने में पूजा करते समय कभी भी तुलसी और केतकी के फूलों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

– भगवान शिव की पूजा करते समय शिवलिंग पर हल्दी और कुमकुम नहीं लगाना चाहिए और ना ही नारियल के पानी से शिवलिंग का अभिषेक करना चाहिए.

– शिवलिंग का जलाभिषेक करते समय कांस्य और पीतल के बर्तनों का इस्तेमाल करना चाहिए.

Sawan Somvar 2020 सावन के महीने में क्या करें ?

– इस महीने में सुबह जल्दी उठें और स्नान करके साफ कपड़े पहने.

– पूजा स्थान की अच्छी तरह साफ़-सफाई करें, और वहां गंगाजल का छिड़काव करें.

– आसपास के मंदिर में जाकर शिवलिंग पर जल व दूध का अभिषेक भी करें.

– इसके बाद भगवान शिव और शिवलिंग को चंदन का तिलक लगाएं.

– इसके बाद भगवान शिव को सुपारी, पंच अमृत, नारियल, बेल पत्र, धतूरा, फल, फूल आदि अर्पित करें.

– अब टीपक जलाएं और भगवान शिव का ध्यान लगाएं.

– इसके बाद शिव कथा व शिव चालीसा का पाठ कर, महादेव की आरती करें.

CG corona Updateऔर MP Corona Updateदेश में Covid19का ताजा अंकड़ा देखने के लिए यहां क्लिक करें

Nationalन्यूज  Chhattisgarh और Madhyapradesh से जुड़ी  Hindi News से अपडेट रहने के लिए Facebookपर Like करें, Twitterपर Follow करें  और Youtube पर  subscribeकरें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *